टीम इंडिया की दीवार राहुल द्रविड़ के बारे में अक्सर कहा जाता है कि सचिन तेंदुलकर की आभा के चलते उन्हें वो पहचान नहीं मिल सकी जिसके वो हकदार थे. शायद कुछ ऐसा ही भारतीय क्रिकेट टीम (Indian Cricket Team) के पूर्व बल्लेबाज दिलीप वेंगसरकर (Dilip Vengsarkar) के साथ भी है. माना जाता है कि सुनील गावस्कर और गुंडप्पा विश्वनाथ जैसे दिग्गजों की मौजूदगी में वेंगसरकर को वैसी शोहरत नहीं मिली, जो मिलनी चाहिए थी. हालांकि बावजूद इसके दिलीप वेंगसरकर को कोई मलाल नहीं है और वह अपने कैरियर से काफी खुश हैं.

16 साल के करियर में खेले 116 टेस्ट
दिलीप वेंगसकर (Dilip Vengsarkar) ने बीते सोमवार को अपना 64वां जन्मदिन मनाया. 16 साल तक खेलने वाले वेंगसरकर ने कहा, ‘जब मैं पीछे देखता हूं तो काफी अच्छा और संतोषजनक सफर रहा. भारत के लिए 116 टेस्ट खेलना सबसे बड़ा संतोष है. इसके अलावा 129 वनडे, विश्व कप जीतना और विश्व चैंपियनशिप जीतना, इसके साथ भारत की कप्तानी. यह शानदार सफर रहा.’

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here