कोरोना वायरस एक बायो वेपन है? ये सवाल पिछले दो महीनों से लगातार दुनियाभर में तैर रहा है. शुरुआत में इसे लेकर तगड़ी बयानबाजी एक अमेरिकी नेता द्वारा की गई. फिर चीन भी इस बहस में कूद पड़ा और आरोप लगाया कि ये बायो अटैक अमेरिका की तरफ से किया गया है. अब ब्रिटेन की एक लैब ने भी दावा किया है कि कोरोना वायरस दरअसल एक बायोवेपन है जो चीन में बनाया गया है.

चीन द्वारा फैक्ट छुपाए जाने के कारण कोरोना को लेकर तरह-तरह खबरें दुनियाभर में चली हैं. समस्या ये है कि खुद चीन में भी कोरोना की उत्पत्ति को लेकर विवाद है.

चीनी सरकार हमेशा ये कहती रही कि कोरोना वायरस वुहान के सी-फूड मार्केट से उपजा है, विश्व स्वास्थ्य संगठन भी इस दावे के साथ खड़ा है. जबकि चीन में हुई कुछ रिसर्च का दावा है कि ये वायरस देश में पहले से मौजूद था. कोरोना की उत्पत्ति को लेकर भ्रम, बायोवेपन के आरोप, वैश्विक संक्रमण से उपजे भय ने कई कहानियों को लोगों को सच मानने पर मजबूर किया है. लेकिन अभी तक इसके कोई ठोस प्रमाण नहीं मिले हैं कि कोरोना एक बायोवेपन है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here